Live Tv

Tuesday ,19 Mar 2019

कांग्रेस के आगे फिर गिड़गिड़ाए केजरीवाल, हरियाणा में गठबंधन करने की लगाई गुहार

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 14-2019 04:25:06pm
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, arvind kejrival, delhi CM kejriwal, gathbandhan, congress se haath milane ko aatur kejrival, aap, aam admi party

कांग्रेस के लाख इनकार के बावजूद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कांग्रेस से गठबंधन को बेताब हैं. आम आदमी पार्टी AAP के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से गुहार लगाई है कि हरियाणा में कांग्रेस गठबंधन करने पर विचार करे.

उन्होंने करते हुए कहा की, ''देश के लोग अमित शाह और मोदी जी की जोड़ी को हराना चाहते हैं. अगर हरियाणा में JJP, AAP और कांग्रेस साथ लड़ते हैं तो हरियाणा की दसों सीटों पर बीजेपी हारेगी. राहुल गांधी जी इस पर विचार करें.'' JJP यानि जननायक जनता पार्टी दुष्यंत चौटाला की पार्टी है. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने सात, कांग्रेस ने एक और आईएनएलडी ने दो सीटों पर जीत दर्ज की थी. आईएनएलडी दो फाड़ हो चुकी है. INLD से अलग JJP का गठन किया गया है.

आपको बता दें कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की अपील के बावजूद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गठबंधन से इनकार कर दिया था. उन्होंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित से सलाह लेने के बाद दिल्ली की सभी सात सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला लिया.

पूरी खबर पढ़े....62वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल ने किया रक्तदान शिविर का आयोजन

पिछले दिनों कांग्रेस के इनकार पर अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि उनकी पार्टी ने कांग्रेस को गठबंधन करने के लिए प्रयास किया, लेकिन वो समझ नहीं पायी. उन्होंने दावा किया, "कांग्रेस लोकसभा चुनाव में दिल्ली में अपनी जमानत गंवा बैठेगी." दिल्ली की सभी 7 सीटों और हरियाणा की 10 सीटों पर पर छठे चरण में 12 मई वोट पड़ने हैं. 

ध्यान रहे कि अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस के खिलाफ आंदोलन कर राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी और आज दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में से 67 सीटों पर आम आदमी पार्टी का कब्जा है.

इससे पहले भी अरविंद केजरीवाल ने राहुल गांधी से बीजेपी को हराने के लिए गठबंधन की अपील की थी. ध्यान रहे कि दिल्ली की सभी सात सीटों पर बीजेपी का कब्जा है. हालिया सर्वे में दावा किया गया है कि इसबार के चुनाव में भी आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की हाथ खाली रहेगी. यही वजह है कि केजरीवाल जीत के लिए कांग्रेस से गठबंधन करने के लिए आतुर हैं.