Live Tv

Tuesday ,19 Mar 2019

नौ मई को मेष लग्न में खुलेंगे बाबा केदार के कपाट

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 04-2019 12:35:59pm
knews, news, khabar, taaza khabar, kanpur news, latest news, breaking news, hindi news, गढ़वाल, रुद्रप्रयाग, उत्तराखंड, केदारनाथ, मंदिर, भोलेनाथ, ओंकारेश्वर मंदिर, भांग, शीतकालीन, कपाट, बाबा, आशीर्वाद, भगवान, शिवरात्रि, श्रद्धालु, पूजा, पूजा-अर्चना, गौरीकुंड, मेष, लग्न, डोली, घोषणा, मई, रात्रि, मूर्ती, रक्षक भैरवनाथ

नौ मई को भगवान केदारनाथ के कपाट प्रातः 5 बजकर 35 मिनट पर श्रद्धालुओं के लिए दर्शन करने के लिए ग्रीष्मकाल में छहमहीनों के लिए खोल दिये जाएंगे। शिवरात्रि के महापर्व पर बाबा केदार के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में पंचाग गणना के अनुसार कपाट खोलने की तिथि व समय घोषित किया गया। इस अवसर पर सैकड़ों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं ने भगवान भोले का भांग पीकर आशीर्वाद लिया। 

Maha Shivaratri: व्रत के दौरान खाने-पीने की चीज़ों का रखें खास ख्याल.... (आगे पढ़े)

पूर्व परम्परा के अनुसार महापर्व शिवरात्रि पर भगवान केदारनाथ के कपाट खुलने की तिथि तय की जाती है। सोमवार को प्रातः साढ़े आठ बजे भगवान केदारनाथ की पूजा-अर्चना के बाद पंचाग गणना के अनुसार मंदिर के अधिकारियों की मौजूदगी में वेदपाठी और पंडितों ने कपाट खोलने का दिन व समय निर्धारित किया। पंचाग गणना के अनुसार मेष लग्न में नौ मई को प्रातः 5 बजकर 35 मिनट पर भगवान केदारनाथ के कपाट खोले जायेंगे। कपाट खोलने की तिथि घोषित होने के बाद शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर भोले के जयकारों से गुंजायमान हो उठा। डोली के केदारनाथ रवाना से दो दिन पूर्व केदारनाथ के क्षेत्र रक्षक भैरवनाथ की पूजा संपंन होगी, जिसके बाद बाबा केदार की पंचमुखी चलविग्रह उत्सव मूर्ति गर्भ गृह से सभा मंडप में लाई जायेगी। जहां मूर्ति एवं बाबा केदार की डोली को सजाया जायेगा और छः मई को डोली शीतकालीन गददीस्थल से प्रस्थान करने के बाद प्रथम रात्रि प्रवास रामपुर में करेगी। सात मई को बाबा केदार की डोली द्वितीय रात्रि प्रवास गौरीकुंड में करेगी और तृतीय रात्रि प्रवास के लिये डोली केदारपुरी पहुंचेगी। जहां नौ मई को बाबा केदार के कपाट विधि-विधान से आम श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिये जाएंगे। कपाट घोषणा के मौके पर बद्री-केदार मंदिर समिति अध्यक्ष अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह, कार्याधिकारी एनपी जमलोकी, राॅवल भीमाशंकर लिंग, केदारनाथ मंदिर पुजारी केदार लिंग मौजूद रहे।