Live Tv

Tuesday ,19 Mar 2019

महाशिवरात्रि की पूजा में इन बातों का रखें ख़ास ख्याल, भूल कर भी न करे ये गलती

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Mar 04-2019 09:36:34am
latest news, news, kanpur news, knews, breaking news, hindi news, hindi khabar, taza khabar, mahashivratri, mahashivratri 2019, bhul kar bhi na kare ye galti, 4th march mahashivratri, lord shiva, bholenath

महाशिवरात्रि का पर्व 4 मार्च को बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जायेगा। माना जाता है महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस अवसर पर देश के सभी शिवालयों पर विशेष आयोजन किया जाएगा। भगवान शिव को प्रसन्न करने और उनकी भक्ति में लीन होने के लिए शिव भक्त उन्हें तरह तरह की चीजें अर्पित करते हैं। इस दिन शिव भक्त व्रत भी रखते हैं ऐसे में महाशिवरात्रि के व्रत को पूरा करने में भूलकर भी गलतियां नहीं करनी चाहिए वरना पूजा अधूरी मानी जाती है।

महाशिवरात्रि का त्योहार शिवभक्तों के लिए बहुत ख़ास माना जाता है। महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव को यदि प्रसन्न करना चाहते हैं तो इस दिन काले रंग के कपड़े ना पहनें। कहा जाता है कि भगवान शिव को काला रंग पसन्द नहीं है।

महाशिवरात्रि के दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए. मान्यता है कि इस दिन देर तक सोने वाले लोगों से शिव जी नाराज हो जाते हैं. साथ ही बिना नहाएं इस दिन कुछ भी ना खाएं. 

शिवरात्रि के दिन काले रंग के कपड़ों को पहनना अशुभ माना जाता है. इसलिए इस दिन काले रंग के कपड़े पहनने से बचें. 

भगवान शिव को भूलकर भी चंपा और केतकी के फूल नहीं चढ़ाना चाहिए. क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि भगवान शिव ने इन फूलों को शापित किया था. 

पूरी खबर पढ़े....राहुल गाँधी के साथ डेट पर जाना चाहती थीं करीना कपूर

भगवान शिव की पूजा में चावल चढ़ाने से पहले देख लें की कोई भी चावल टुटा हुआ न हो. अक्षत का मतलब होता है अटूट चावल, यह पूर्णता का प्रतीक है. इसल‌िए श‌िव जी को अक्षत चढ़ाते समय यह देख लें क‌ि चावल टूटे हुए ना हों.

शिवलिंग पर अभिषेक हमेशा ऐसे पात्र से करना चाहिए जो सोना, चांदी या कांसे का बना हो. अभिषेक के लिए कभी भी स्टील, प्लास्टिक के बर्तनों का प्रयोग ना करें.

भोलेनाथ को वैसे तो कई फल अर्पित किए जा सकते हैं लेकिन शिवरात्रि पर बेर जरूर अर्पित करें क्योंकि बेर को चिरकाल का प्रतीक माना जाता है.

मान्यता है कि महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पर चढ़ाए जाने वाले प्रसाद को ग्रहण करने से जीवन में दुर्भाग्य आता है. इसलिए शिवलिंग पर चढ़े प्रसाद को ग्रहण ना करें. 

शिवलिंग पर कभी भी तुलसी की पत्ती नहीं चढ़ाना चाहिए. शिवलिंग पर दूध चढ़ाने से पहले यह ध्यान रखें कि पाश्चुरीकृत या पैकेट का दूध इस्तेमाल ना करें और शिवलिंग पर ठंडा दूध ही चढ़ाएं.