Live Tv

Tuesday ,19 Feb 2019

पतंजलि योग पीठ में दिखा राजपथ का नज़ारा, जम्मू कश्मीर ने सांस्कृतिक नृत्य से किया मोहित

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Feb 04-2019 12:29:21pm
 knews, news, khabar, taaza khabar, kanpur news, latest news, breaking news, hindi news, पतंजलि, जम्मू-कश्मीर, थीम, झांकी, राजपथ, गणतंत्र दिवस, परेड, उत्तराखंड, देवभूमि, कलाकार, पुरस्कार, ऋषिकेश

हरिद्वार योग गुरु बाबा रामदेव की पतंजलि योग पीठ में राजपथ का नजारा देखने को मिला। 26 जनवरी को दिल्ली में राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल 16 राज्यों और 6 भारत सरकार के मंत्रालय के 300 कलाकारों ने पतंजलि योग पीठ के मंच पर अपनी प्रस्तुति दी। यही नहीं, गणतंत्र दिवस परेड में सेकेंड प्राइज जितने वाली झांकी में शामिल जम्मू कश्मीर के कलाकारों के द्वारा दी गई प्रस्तुति ने लोगों का मन मोह लिया। विभिन्न राज्यों के कलाकारों ने अपनी प्रदेश की संस्कृति के हिसाब से प्रस्तुति दी। कश्मीर, जम्मू और लद्दाख के कलाकरों ने तीनों जगह की संस्कृति को अपने नृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया। कश्मीर से आये कलाकारों ने राजपथ और पतंजलि के अनुभव को बेहद शानदार बताया।

चिटफंड घोटाला: कौन है वो पुलिस कमिश्नर, जिसे बचाने के लिए आधी रात को धरने पर बैठी ममता... (आगे पढ़े)

जम्मू कश्मीर के ऑफिसर नजीर हुसैन का कहना है कि इस बार इन्होंने राजपथ पर जम्मू का प्रतिनिधित्व किया है। जम्मू के लिए इस बार राजपथ प्रदर्शनी में बापू की थीम दी गई थी बापू को लेकर झांकियां निकाली गई हैं, राजपथ पर झांकियां प्रस्तुत करने पर दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है यह कश्मीर वादी के लिए बड़ी उपलब्धि है जितने भी कलाकारों ने राजपथ पर प्रस्तुति दी है उन सभी को डेढ़ लाख रुपए का पुरस्कार दिया गया है। इन्हें पतंजलि में झांकी प्रस्तुत करने का मौका मिला है इससे यह काफी खुश है और साथ ही धर्म की नगरी में आकर भारत वासियों को कश्मीर आने का न्योता भी दे रहे हैं, उनका कहना है कि कश्मीर अमन चैन का प्रदेश है और इसकी सुंदरता देश और दुनिया में अलग पहचान रखती है इसलिए लोगों को कश्मीर आकर यहां का नजारा देखना चाहिए। 

उत्तराखंड राज्य के डिप्टी डायरेक्टर सूचना विभाग के.एस. चौहान का कहना है कि गणतंत्र दिवस की परेड पर 16 राज्यो और 6 मंत्रालयों की की झांकिया निकाली गई थी उन सभी झांकियों के कलाकार हरिद्वार ऋषिकेश के भ्रमण पर आए है। गणतंत्र दिवस की परेड में मेरे द्वारा उत्तराखंड की झांकियों का प्रतिनिधित्व किया गया और वही पर मेरे द्वारा इन कलाकारों से आग्रह किया गया था कि यह सब कलाकार उत्तराखंड आए और देवभूमि का भ्रमण करें पतंजलि में इन सभी कलाकारों ने विभिन्न प्रस्तुतियां दी हैं।