Live Tv

Tuesday ,19 Feb 2019

पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का स्वाइन फ्लू से 88 वर्ष की उम्र में निधन

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 29-2019 10:51:36am
पूर्व रक्षामंत्री, जॉर्ज फर्नांडिस, निधन, हड़ताल, केंद्र सरकार, स्वाइन फ्लू Latest News, News, Kanpur News, Knews, Breaking News, Hindi News,  Hindi Khabar, Taza Khabar

देश के पूर्व रक्षामंत्री और समता पार्टी के संस्थापक जॉर्ज फर्नांडिस का मंगलवार सुबह ७ बजे ८८ वर्ष की उम्र में निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से स्वाइन फ्लू से पीड़ित थे और दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती थे। लंबे समय से बीमार होने की वजह से ही वह काफी समय से बिस्तर पर ही थे। डॉक्टरों ने बताया है कि स्वाइन फ्लू के चलते ही उनकी मौत हुई है। अपने लंबे राजनीतिक करियर में उन्होंने रक्षा, उद्योग मंत्रालय का जिम्मा संभाला था। जॉर्ज के रक्षामंत्री रहते हुए ही भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था। अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में पहली बार केंद्र में कार्यकाल पूरा करने वाली गठबंधन सरकार में जॉर्ज रक्षामंत्री रहे।

राष्ट्रपति-PM ने किया शौक व्यक्त 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी जॉर्ज फर्नांडिस के निधन पर शोक व्यक्त किया। नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि जॉर्ज साहब ने भारत के बेस्ट राजनीतिक लीडरशिप की अगुवाई की, उनका योगदान काफी अहम रहा है। इमरजेंसी के दौरान जॉर्ज फर्नांडिस काफी एक्टिव रहे थे, आपातकाल हटने के बाद ही वह राजनीति में कूदे और चुनाव लड़ा। उन्होंने जेल में रहते हुए ही बिहार के मुजफ्फरपुर से चुनाव लड़ा और जीते । केंद्र में जब मोरारजी देसाई की अगुवाई में सरकार बनी तो उन्हें मंत्री पद भी दिया गया। इसके बाद वीपी सिंह की सरकार में वह रेल मंत्री भी रहे। 

पीएम मोदी करेंगे 2.0 पर विद्यार्थियों से परीक्षा पर चर्चा, अभिभावक और शिक्षक भी लेंगे हिस्सा.. (आगे पढ़े)

ऐतिहासिक रहा राजनीतिक सफर

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का भारतीय राजनीति में यादगार योगदान रहा है, फिर चाहे वह रक्षा क्षेत्र में उठाए गए बड़े फैसले हों या फिर इमरजेंसी के दौरान अपनी आवाज उठाने का मुद्दा रहा हो, जॉर्ज फर्नांडिस ने हमेशा ही आगे बढ़कर नेतृत्व किया। पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस की अगुवाई में १९७४ में हुई रेलवे हड़ताल को सबसे बड़ी हड़ताल के रूप में देखा जाता है। उस दौरान वह ऑल इंडिया रेलवेमैन फेडरेशन के प्रमुख थे, जॉर्ज की अगुवाई में हुई उस हड़ताल ने केंद्र सरकार की नींद उड़ा दी थी। जॉर्ज फर्नांडिस १० भाषाओं के जानकार भी थें, जिसमें हिंदी, अंग्रेजी, तमिल, मराठी, कन्नड़, उर्दू, तुलु, कोंकणी आदि भाषाएं शामिल हैं। 

NDA में अहम भूमिका 

अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में जब एनडीए की सरकार बनी तो जॉर्ज फर्नांडिस को रक्षा मंत्री का पद दिया गया। उन्होंने एनडीए के संयोजक के रूप में भी अहम भूमिका निभाई, बताया जाता है कि उस दौरान अगर एनडीए में कोई रुठता तो उन्हें मनाने का काम जॉर्ज फर्नांडिस के जिम्मे ही रहता था।

नौ बार सांसद रहे 

३ जून, १९३० को मैंगलोर में पैदा हुए जॉर्ज फर्नांडिस नौ बार लोकसभा के सांसद रह चुके हैं। अपने संसदीय जीवन में वह संसद की कई कमेटियों का हिस्सा रहे और सरकारों में कई पदों पर भी रहे। देश में जब आपातकाल था तब जॉर्ज फर्नांडिस पगड़ी बांध और दाढ़ी रख कर सिख भेष में घूमा करते थे। कहा जाता है कि जब उन्होंने गिरफ्तारी दी थी तब वह जेल में गीता के श्लोक सुनाते थे।