Live Tv

Thursday ,17 Jan 2019

आए दिन बढ़ रहे हैं कछुआ तस्करी के अपराध

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 12-2019 01:51:51pm

इटावा में लग्जरी कार से तस्करी कर उत्तराखंड ले जा रहे 327 कछुओं को बरामद किया गया है। एसटीएफ के निरीक्षक राजेश चंद्र त्रिपाठी व प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी सतपाल ने बताया की तड़के 4:00 बजे सफेद रंग की कार से कछुआ को ले जाने की सूचना मिली थी। थाना चौबिया के चौपला गांव के पास कार को रोका गया तो उसमें सवार लोग भागने लगे तो उन्हें पकड़ लिया गया। कार की तलाशी में संरक्षित प्रजाति के 327 कछुए बरामद हुए। इनमें सुंदरी प्रजाति के 322, 5 इंडियन ब्लैक स्पॉटेड कछुए हैं। इन कछुओं को उत्तराखंड से बंगलादेश ले जाने की योजना थी। पकड़े गए लोगों में रामशरण प्रजापति, किशन गोपाल, टच पाल सिंह खोकन मंडल को वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के उल्लंघन के आरोप में जेल भेजा जा रहा है।

पूर्व CM के बाद PM बनने की होड़ में मायावती : अखिलेश देंगे साथ... (आगे पढ़े)

आपको बताते चलें की इटावा जनपद के चोपड़ा गांव के पास से बरामद पशुओं के तस्कर पहली बार नहीं पकड़े गए हैं। यह लोग आदतन अपराधी माने जा रहे हैं। तस्करी में इस्तेमाल किए जाने वाली कार बरामद की गई है। इस कार का मालिक पूर्व सैनिक भी गिरफ्तार किया गया है जो पांचवीं बार कछुओं को कार से ले जा रहा था।

कछुओं की तस्करी में लिप्त पूर्व सैनिक रामशरण प्रजापति और फौजी ने बताया कि वह मैनपुरी करहल किशनी आदि स्थानों के प्रति कछुआ ₹50 की दर से खींचकर आगे तस्करी करने पर प्रति कछुआ ₹700 कीमत पाता रहा है। खुलासे में हैरत की बात यह रही कि कछुओं की तस्करी का गैंग शहर का ही है। इसका खुलासा तब हुआ जब एसटीएफ लखनऊ की टीम की निरीक्षक राजेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि उनको तस्करी की जानकारी उनके मुखबिर से मिली। इसी के साथ उन्होंने वन विभाग को साथ चलने को कहा। मुखबिर द्वारा बताए स्थान पर पुलिस ने छापा मारा और तस्करों को 327 कछुआ सहित गिरफ्तार कर लिया।