Live Tv

Thursday ,17 Jan 2019

पाकिस्तान की कॉल से मौलाना को धमकी

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 12-2019 01:59:00pm

 शामली में मजीद के मोलाना मोहम्मद साजिद अली कासमी को जान से मारने की धमकी मिली है मौलाना के पास पाकिस्तान के एक नंबर से संदिग्ध बात की गई थी और उसमें कुछ सामान को मस्जिद के अंदर रखने की बात कही गई जिस पर मौलाना ने मना कर दिया तो उन्हें बम से उड़ाने की धमकी दी गई है फिलहाल डरे सहमे मौलाना ने एसपी शामली को सारी बात बता कर सुरक्षा की गुहार लगाई है।

 

गठबंधन से पहले ही सीटों पर शुरू हुआ 3- 5 का खेल .... (आगे पढ़े)

 आपको बता दें कि पूरा मामला जनपद शामली का है जहां पर सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला तैमूर स्थित मस्जिद के मौलाना मोहम्मद साजिद अली का असली को जान से मारने की धमकी मिली है आपको बता दें कि उनके पास पाकिस्तान के नंबर से एक कॉल आया जिस पर उन्हें कहा गया कि हमारे कुछ लोग शामली में है और वह कुछ सामान आपके यहां मस्जिद में कुछ दिनों के लिए रखवा ना चाहते हैं जब मौलाना ने फोन कॉल पर उन्हें कहा कि आप कौन बोल रहे हैं तो उन्होंने बताया कि मैं गाजियाबाद से बोल रहा हूं और हमारे कुछ लोग शामली में है जो कि फल सब्जी आदि कुछ सामान आप की मस्जिद में रखवा ना चाहते हैं तो इस बात पर मौलाना साहब ने मना कर दिया और कहा कि हमारे पास मस्जिद में कोई कमरा खाली नहीं है तो उन्होंने मौलाना साहब को मुसलमान होने और मुसलमान की मदद ना करने की बात कही तो उन्होंने कहा कि आप सीधे तौर पर बताइए कि आप क्या कहना चाहते हैं उन्होंने कोड वर्ड यूज कर कहा कि हम कुछ आलू प्याज और टमाटर आप की मस्जिद में रखना चाहते हैं और 5 से 10 दिन के अंदर उनको वहां से उठा लेंगे मौलाना द्वारा इस बात को मना किए जाने पर कुछ देर बाद दोबारा दूसरे नंबर से कॉल आई जिस पर उन्हें सामान्य रखने की एवज में बम से उड़ाने की धमकी दी गई डर से में मौलाना ने पूरे मामले से एसपी शामली को अवगत कराया है और अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई है मौलाना का कहना है कि यह कोई आतंकवादी संगठन की साजिश हो सकती है लिहाजा इस पूरे मामले की जांच कराई जाए और उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

 

 

आपको बता देंगे कुछ दिन पहले पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एनआईए की टीम ने कई जगह पर छापेमारी की थी और कई जगहों से संदिग्ध आतंकी संगठन के लोगों को हिरासत में लिया था बीते कुछ दिनों पहले एनआईए की टीम ने आतंकियों के छिपे होने के शक में शामली के झिंझाना में भी छापेमारी की थी ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि आतंकी संगठनों के तार जनपद शामली से जुड़े हुए जनपद शामली के कई लोग पहले भी अटारी बॉर्डर पर हथियारों के साथ पकड़े गए हैं या अन्य आतंकी गतिविधियों में शामिल रह चुके हैं लिहाजा इस बात की आशंका से बिल्कुल इनकार नहीं किया जा सकता कि यह कैसी आतंकवादी संगठन की साजिश हो सकती है और आने वाले 26 तारीख को 26 जनवरी के दिन उनके किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश हो सकती है फिलहाल शामली पुलिस को इन सभी मामलों पर गहनता से जांच करनी चाहिए।

 

वह इस पूरे मामले पर एसपी शामली अजय कुमार का कहना है कि शामली के एक मौजूद आदमी मौलाना हमारे पास आए थे और उन्होंने एक नंबर द्वारा फोन पर धमकी देने की बात कही थी जिसका मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है और जो भी सही बात इसमें निकल कर सामने आएगी उस पर जांच की जा रही है।