Live Tv

Thursday ,17 Jan 2019

वकीलों ने एस डीएम के खिलाफ तहसील परिसर में जमकर किया विरोध

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 12-2019 11:47:22am

रामपुर की तहसील स्वार में व्याप्त भ्रष्टाचार व खनन माफियाओं से साठगांठ का आरोप लगा अधिवक्ताओं ने उपजिलाधिकारी से नोकझोंक कर तहसील परिसर में घूमकर जोरदार प्रदर्शन एवं नारेवाजी कर मुख्यमंत्री को संवोधित ज्ञापन भेज शीघ्र स्थांतारण किए जाने की मांग की है। साथ ही स्थांतारण न होने तक अनिश्चित कालीन हड़ताल की घौंषणा की है। वहीं बार बैलफेयर ऐसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने हड़ताल को समर्थन दिया है।

 

राजधानी में फिर से स्वाइन फ्लू दे चुका दस्तक .... (आगे पढ़े)

 

 सीनियर बार बैलफेयर ऐसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने कार्यवाहक वार अध्यक्ष महबूब अली के नेतृत्व में उपजिलाधिकारी लालता प्रसाद शाक्य के खिलाफ जोरदार नारेवाजी एवं प्रदर्शन किया जिसपर उपजिलाधिकारी व अधिवक्ताओं की नोकझोंक हो गई और पुलिस को बुला लिया तब कोतवाल इंद्रेश सिंह ने अधिवक्ताओं को समझाने का प्रयास किया लेकिन पुलिस के हस्तक्षेप से अधिवक्ता भड़क गए और तहसील परिसर में घूमकर नारेवाजी की। अधिवक्ताओं ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेज अवगत कराया की उपजिलाधिकारी शासन की नितियों के विपरित विरासत दर्ज भी नही की जाती अधिक्तर समय खनन माफियाओं व सफेदपोश नेताओं के साथ कार्यालय बिताते हैं ।

तहसील में अधिनस्तों पर कोई अंकुश नही है सभी कर्मचारी बेलागाम होकर रह गए हैं और न ही विधी सम्मत कोई कार्य न कर विधी विरुध किए जा रहे हैं । शासन की मंशा व नितियों के अनुसार कार्य न कर शासन की छवि को धूमिल कर रहे हैं इसलिए उपजिलाधिकारी का स्थांतारण अति आवश्यक है। क्योंकि आगामी लोकसभा चुनाव में उपजिलाधिकारी की भूमिका संदिग्ध रहेगी क्योंकि उपजिलाधिकारी शासन की नितियों के विरुध विपक्षी पार्टी के एजेंट के रुप में कार्य कर रहे हैं। उन्होने शीघ्र स्थांतारण की है।।