Live Tv

Thursday ,21 Mar 2019

यूपी में हमें कम न आंका जाये, बगैर गठबंधन भी हम चुनाव लड़ सकते हैं - राहुल गांधी

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 09-2019 12:14:09pm

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने बयान में संकेत दिया है कि अगर यूपी में कांग्रेस का सपा-बसपा से गठबंधन नहीं हुआ तो कांग्रेस अकेले भी चुनाव लड़ने का दम रखती है। इसलिए कांग्रेस को काम न आंका जाये। खाड़ी देशों के प्रमुख अखबार गल्फ न्यूज को दिए इंटरव्यू में राहुल गांधी ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे कभी कोई बातचीत नहीं करते। उन्होंने यह भी साफ़ किया कि पीएम मोदी के लिए उनका ऐसा बर्ताव मोदी के हरदम गुस्से में रहने की वजह से है। 

मोदी को हराना कांग्रेस का पहला लक्ष्य

राहुल गांधी का पहला लक्ष्य नरेंद्र मोदी को हराना है। राहुल ने यह भी कहा की ऐसे कई राज्य हैं, जहां हम काफी मजबूत और मुख्य पार्टी हैं और बीजेपी से हमारा सीधा मुकाबला है। कई राज्य ऐसे नहीं हैं, जहां गठबंधन हो सकता है- जैसे महाराष्ट्र, झारखंड, तमिलनाडु, बिहार। इन राज्यों में हम गठबंधन के फॉर्मूले पर काम कर रहे हैं। 

यूपी में हमें नजरअंदाज न करें 

राहुल गांधी ने संकेत दिया कि यूपी में अगर गठबंधन नहीं होता है तो उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यूपी में काफी मजबूत है और इस राज्य में हमारी पार्टी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। राहुल ने कहा की कांग्रेस अपने बलबूते पर ही यूपी में अच्छा कर सकती है। कांग्रेस का विचार यूपी में काफी मजबूत है, इसलिए हमें यूपी में अपनी क्षमता पर पूरा भरोसा है और हम लोगों को दंग कर देंगे। 

भूत-प्रेत बाधाओं से बचने के लिए हमेशा रखें ये चीज साथ.... (आगे पढ़े)

गौरतलब है कि यूपी में सपा-बसपा के गठबंधन की चर्चा है जिसमें कांग्रेस के लिए महज दो सीटें छोड़ने की बात की जा रही है। 

मोदी को हेलो बोलना चाहिए

उन्होंने कहा की मोदी मुझसे बात नहीं करते। वह मिलते हैं तो उनका अभिवादन भी मौन तरीके से ही होता है। उन्हें कम से कम 'हेलो' तो बोलना चाहिए। हालांकि, राहुल गांधी ने यह भी कहा कि उन्होंने पीएम मोदी से कई सबक तोहफे के रूप में मिले हैं। 

उन्होंने कहा, 'श्री नरेंद्र मोदी काफी गुस्से में रहते हैं और मेरे बारे में वह जो कुछ बोलते हैं, वह काफी हद तक इस गुस्से का ही नतीजा होता है। लेकिन कई ऐसी चीजें भी वे कहते हैं जिन पर मैं गौर करता हूँ। उदाहरण के लिए मेरे परिवार पर वह जो आरोप लगते हैं। उनका आरोप मेरे प्रति घृणा और गुस्से का नतीजा ही होता है। वह कहते हैं- मैं इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता कि मेरा परिवार राजनीति में है। 

मोदी से कौनसा सबक मिला 

राहुल गांधी का कहना है की नरेंद्र मोदी से मुझे सबसे बड़ा सबक यह मिला है कि अब मैं सुनता हूँ और काफी गहराई से सुनता हूँ। लेकिन राहुल गांधी ने कहा कि मोदी इस बात पर गौर नहीं करते कि मेरी दादी इंदिरा और पिता राजीव की हिंसक मौत का मेरे परिवार पर क्या असर हुआ है। उन्होंने कहा की श्री नरेंद्र मोदी यह नहीं देखते कि राजनीति से हमें कितना दर्द मिला। हमें किस हिंसा का सामना करना पड़ा और उससे मुझे क्या सबक मिला। हर चीज के दो पहलू होते हैं। श्री मोदी के भी कई नफे और नुकसान हैं।