Live Tv

Thursday ,17 Jan 2019

कादर खान का देवबन्द से था बेहद लगाव

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 04-2019 03:07:30pm

फिल्म निर्माता, लेखक और अभिनेता कादर खान के निधन पर लेखक एवं फिल्म समीक्षक कमल देवबंदी ने गहरा दुख जताया। देवबंदी ने बताया कि वह कादर खान के साथ लंबे समय से सम्पर्क में थे। कादर खान को इस्लाम मज़हब पर आधारित पुस्तकों को पढ़ने का शौक था। कमल देवबंदी ने कहा कि अक्सर वह मुंबई जाकर कादर खान से मिला करते थे। कादर खान उनसे इस्लाम धर्म की पुस्तकें मंगवाते थे। देवबन्दी ने यह भी बताया कि कादर खान पवित्र कुरआन शरीफ का अनुवाद अलग-अलग भाषाओं में कर रहे थे। और साथ ही कादर खान मुस्लिम समाज के फिरकों (पंथों) में बंटे रहने से हमेशा चिंतित रहते थे। उनका कहना था कि जब सभी एक अल्लाह, एक रसूल और एक कुरआन को मानने वाले हैं तो फिरकों में बंटने से कौम को नुकसान हो रहा है। कमल ने कादर खान के बारे में एक किस्सा बताया कि इस्लामिक पुस्तकों को पढ़ने के शौकीन अक्सर देवबंद से इस्लामिक पुस्तकें मंगवाया करते थे। वर्ष 2000 में कादर खान ने नगर के एक कुतुबखाने (इस्लामिक पुस्तकों के विक्रेता) को सीधे लैंडलाइन पर फोन किया और कहा कि मुंबई से कादर खान बोल रहा हूँ लेकिन पुस्तक विक्रेता को यकीन नहीं हुआ। विक्रेता ने जवाब में कहा कि तो में शक्ति कपूर बोल रहा हूँ। फिर दोनों में कुछ देर हल्की बहस हुई। कमल देवबंदी ने बताया कि ऐसे बहुत से कलाकार है जिनका बहुत गहरा ताल्लुक देवबन्द से रहा है। एक ज़माने में दलीप कुमार साहब का भी उनसे बहुत गहरा ताल्लुक था। लेकिन अब तो वो बहुत बीमार हैं। देवबन्द के बहुत से बुक सेलर जाते थे दलीप कुमार साहब के पास और उन्हें किताबे भी देते थे। ऐसे ही हमारे अदाकार फारुख शेख थे जो अब नहीं रहे। उनका दारुल उलूम से बहुत गहरा लगाव था। इसके अलावा अकबर खान साहब का भी देवबंद से बहुत गहरा सम्बन्ध रहा है। उस समय जब मस्जिद रशीद का निर्माण हो रहा था तब वो देवबंद आए थे और मस्जिद निर्माण के लिये जैसा मेरे सुनने में आता है उस समय वो 14 हजार रुपये देकर गए थे। तो इस तरह कई फ़िल्म स्टार का देवबनंद से सम्बन्ध रहा है और ज्यादातर का किताबों ओर दारुल उलूम की वजह से सम्बंध रहा है। इसी तरह धर्मेंद्र का ओर प्रेम चोपड़ा का भी मुझसे सीधा संपर्क अभी भी बना हुआ है। 

 कमल देवबंद ने बताया की रमज़ान का महीना था, कादर खान साहब का फोन आया मेरे पास। उन्हें कुरान शरीफ की तफशिर चाहिए थी तो मैंने कुरान शरीफ तफशिर बाई पोस्ट भेज दी थी। उनसे मैंने मालूम भी किया कि आप क्या करोगे क्योंकि आपका ताल्लुक तो फिल्मी दुनिया से है। उन्होंने कहा कि नहीं मैं रमजान में कुरान शरीफ की तफशिर का मुताला करता हूँ और बच्चों के लिए भी में दीनयात का एक सलेबस तैयार कर रहा हूँ जो उनके लिए फायदेमंद हो।