Live Tv

Thursday ,21 Mar 2019

IND-AUS के खिलाड़ियों ने पिंक टेस्ट में बांधी काली पट्टी

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Jan 03-2019 11:52:20am

भारत और ऑस्ट्रेलिया दौरे का चौथा व आखिरी टेस्ट मैच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जा रहा है। यह साल २०१९ का पहला मैच है। हर साल इस मैदान पर होने वाले पहले मैच में मैदान में ज्यादा से ज्यादा गुलाबी रंग का इस्तेमाल होता है।

इस मैच में दोनों टीमों के खिलाड़ी बाहों पर काली पट्टियां बांधकर मैदान पर उतरे। टीम इंडिया ने मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के बचपन के कोच रमाकांत आचरेकर के सम्मान में यह काली पट्टी बांधी। भारतीय क्रिकेट को सचिन जैसा नायाब तोहफा देने वाले कोच आचरेकर का ८७ वर्ष की उम्र में बुधवार को मुंबई में निधन हो गया। महान बल्लेबाज़ और भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने अपने कोच के निधन पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि अब आचरेकर सर की मौजूदगी से स्वर्ग में भी क्रिकेट समृद्ध होगा। दूसरे स्टूडेंट की तरह मैंने भी क्रिकेट की ABCD सर के मार्गदर्शन में ही सीखी थी। इसके अलावा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने भी आचरेकर के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए  ट्वीट किया की क्रिकेट में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा। 

विद्या बालन को है OCD नाम की खतरनाक बीमारी, जिसके कारण सहन नहीं कर पाती धूल मिट्टी .. (आगे पढ़े)

आपको बता दें की आचरेकर लम्बे समय से बीमार चल रहे थे और २०१३ में स्ट्रोक के बाद से वो चलने-फिरने में असमर्थ थे। अपने करियर में वे सिर्फ एक ही प्रथम श्रेणी मैच खेल पाए, लेकिन उन्हें तेंदुलकर के रूप में सर डॉन ब्रैडमैन के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सबसे महान बल्लेबाज को खोजने और उन्हें निखारने का श्रेय जाता है। सचिन के अलावा आचरेकर ने विनोद कांबली, प्रवीण आमरे, समीर दिघे और बलविंदर सिंह संधू जैसे बड़े नामों को भी कोचिंग दी। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने ट्वीट कर बताया है कि भारतीय टीम रमाकांत आचरेकर के सम्मान में काली पट्टी बांधकर मैदान पर उतरी है। 

ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाड़ी भी काली पट्टी बांधकर मैदान पर उतरे। कंगारू खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व टेस्ट क्रिकेटर बिल वॉटसन के सम्मान में ब्लैक आर्मबैंड बांधे। दरअसल, २९ दिसंबर को ८७ साल की उम्र में बिल वॉटसन का निधन हो गया था। दाएं हाथ के बल्लेबाज वॉटसन ने फरवरी १९५५  में सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट पदार्पण किया. इस मैच में वॉटसन ऑस्ट्रेलिया और न्यू साउथ वेल्स के रिची बेनो, नील हार्वे, एलेन डेविडसन और रे लिंडवाल जैसे दिग्गज खिलाड़ियों के साथ खेले। 

वॉटसन १९५५  में ऑस्ट्रेलिया की ओर से चार टेस्ट खेले। १९५३ -५४ से १९६० -६१ के बीच आठ सत्र के प्रथम श्रेणी करियर में वॉटसन ने छह शतक और पांच अर्धशतक की मदद से १९५८  रन बनाए। 

गंजेपन की समस्या को चुटकियों में करें दूर.... (आगे पढ़े)

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने इस मैच के लिए दिग्गज क्रिकेटर स्टीव वॉ के बेटे ऑस्टिन वॉ को इमर्जेंसी फील्डर के तौर पर चुना है। अगर जरूरत पड़ी, तो उन्हें फील्डिंग के लिए बुलाया जाएगा। १९ साल के ऑस्टिन पहली बार टेस्ट में इस भूमिका में उतरेंगे। 

इस मैच से जुटाई गई राशि को ग्लेन मैक्ग्रा फाउंडेशन को दिया जायेगा जो स्तन कैंसर पीड़ितों की मदद करती है। हर साल इस मैदान पर होने वाले पहले मैच में मैदान में ज्यादा से ज्यादा गुलाबी रंग का इस्तेमाल होने की वजह से इस बार मैच में बाउंड्री, स्टंपस सभी गुलाबी रंग के हैं। विराट कोहली ने भी इस अपने खास अंदाज में पिंक टेस्ट सेलिब्रेट किया और वे भी मैदान कुछ गुलाबी चीजों के साथ नज़र आए।