Live Tv

Wednesday ,20 Mar 2019

ऑस्ट्रेलिया की पारी 151 रन पर ढेर, टीम इंडिया फिर मैदान पर

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Dec 28-2018 09:26:30am

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच का तीसरा दिन ऑस्ट्रेलिया के लिए बेहद ख़राब साबित हुआ। भारत ने दूसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक ऑस्ट्रेलिया के सामने ४४३ रन का स्कोर खड़ा किया था। जो अब ऑस्ट्रेलिया के लिए पार करना असंभव नज़र आ रहा है। क्योंकी भारतीय गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का मौका ही नहीं दिया। फिलहाल मेलबर्न टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई टीम बैकफुट पर है। जहाँ भारत ने ७ विकेट पर ४४३ रन बनाकर अपनी पारी समाप्त कर दी थी तो वहीं ऑस्ट्रेलिया ७ विकेट पर महज़ १४५ रन बनाने में कामयाब हो सकी है।

तीसरे दिन की शुरुआत एरन फिंच और मार्कस हैरिस की जोड़ी ने की। दोनों ने मिलकर स्कोर २४ रनों तक पहुंचाया, तभी ईशांत शर्मा ने भारत को पहली सफलता दिलाई। 11वें ओवर की तीसरी गेंद पर शॉर्ट मिडविकेट पर मयंक ने लो कैच लपका और फिंच को पवेलियन का रास्ता दिखाया।

अपना डेब्यू टेस्ट खेल रहे मयंक अग्रवाल पहले दिन से ही मैच में छाए हुए हैं। पहले दिन मयंक ने 76 रनों की शानदार पारी खेली और अब मैच के तीसरे दिन फील्डिंग के दौरान एक शानदार कैच लपका।

भारत ने ऑस्ट्रेलिया के सामने खड़ा किया 443 रन का स्कोर.... (आगे पढ़े)

विराट जानते थे कि फिंच इस तरह के फ्लिक शॉट खूब खेलते हैं और इसीलिए उन्होंने शॉर्ट मिडविकेट पर फील्डर लगाया। विराट की ये रणनीति फिंच के खिलाफ काम कर गई। इस तरह से ऑस्ट्रेलिया को मैच का पहला झटका लगा। मैच के तीसरे दिन ऑस्ट्रेलिया ने लंच ब्रेक होने तक मात्र 89 रनों पर चार विकेट गंवा दिए।  

 मैच के तीसरे दिन जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 39 साल पुराना एक बड़ा टेस्ट रिकॉर्ड तोड़ डाला। लंच ब्रेक से ठीक पहले बुमराह ने ऐसी गेंद फेंकी की शॉन मार्श चारों खाने चित हो गए। भारतीय गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया है। फिलहाल मेलबर्न टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई टीम बैकफुट पर है। शॉन मार्श को आउट करते ही बुमराह ने अपने टेस्ट विकेटों की संख्या 41 पहुंचा दी। भारत के लिए डेब्यू करते हुए एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड अब जसप्रीत बुमराह के नाम दर्ज हो चुका है। इससे पहले ये रिकॉर्ड दिलीप दोषी के नाम दर्ज था। जिन्होंने 1979 में भारत के लिए डेब्यू करने के बाद एक कैलेंडर ईयर में 40 विकेट झटके थे।

बुमराह की शानदार गेंदबाजी को देखते हुए ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने तो यहाँ तक कह दिया कि आने वाले कुछ ही महीनों में बुमराह क्रिकेट के तीनों फॉरमैट में नंबर-1 गेंदबाज बन जाएंगे।

                                                                                           -विभा चौधरी