Live Tv

Wednesday ,20 Mar 2019

भारत ने ऑस्ट्रेलिया के सामने खड़ा किया 443 रन का स्कोर

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Dec 27-2018 11:03:17am

टीम इंडिया के ऑस्ट्रेलिया दौरे के मेलबर्न में हो रहे तीसरे टेस्ट मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया के सामने ४४३ रन का स्कोर खड़ा किया है जिसमें रोहित शर्मा ६१ रन बनाकर नाबाद रहे। इस टेस्ट मैच में बहुत कुछ दांव पर है। चार मैचों की यह सीरीज इस समय १-१ से बराबरी पर है और इस मैच में जीत न सिर्फ टीम को बढ़त देगी, बल्कि साल-२०१८ का अंत जीत के साथ करने से एक मनोवैज्ञानिक मजबूती के साथ-साथ सीरीज को अपने नाम करने का हौसला भी टीम को मिलेगा । बुधवार को शुरू हो रहे टेस्ट मैच में किसी भी टीम का पलड़ा भारी नहीं माना जा सकता। एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट मैच में जीत ने जहाँ भारत को बढ़त दिला दी, तो वहीं पर्थ में ऑस्ट्रेलिया ने वापसी कर बता दिया था कि उसे उसके घर में हल्के में लेना गलती होगी। अब आत्मविश्वास से भरी दोनों टीमें पीछे नहीं हटना चाहती हैं और सीरीज को जीतने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 

भारत की शुरुआत अच्छी रही। हनुमा विहारी और मयंक अग्रवाल की जोड़ी ने ४० रनों की ओपनिंग साझेदारी की। जहाँ मयंक लगातार स्ट्राइक रोटेट कर रहे थे तो वहीं विहारी ने गेंद को पुराना करने का जिम्मा उठाया। उन्होंने खाता खोलने के लिए २२ गेंदे खेलीं। विहारी ने ६६ गेंदों में आठ रन बनाए। हनुमा के आउट होने के बाद  मयंक और पुजारा ने संभलकर खेलते हुए टीम को मजबूती देने का काम जारी रखा। मयंक ने नेथन लियोन की गेंद पर चौका लगाते हुए अपने करियर का पहला अर्धशतक पूरा किया। पुजारा ने सीनियर खिलाड़ी होने के नाते बड़ी शिद्दत से उन्हें बधाई दी और एमसीजी में मौजूद तमाम खेल प्रेमियों ने खड़े होकर तालियां बजाते हुए इस युवा की हौसलाअफजाई की। तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन टीम इंडिया ने दो विकेट के नुकसान पर २१५ रन बनाये थे। मैच के ख़त्म होने तक विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा बिना कोई विकेट गँवाये ९२ रनों की पार्टनरशिप क्रीज़ पर जमे हुए थे। 

दिमाग को कंप्यूटर की तरह तेज करने के लिए खाने में शामिल करे ये चीज.... (आगे पढ़े)

टेस्ट के दूसरे दिन कप्तान कोहली ने दूसरे सत्र में तेज़ी से रन बनाने की कोशिश में अपना विकेट गंवा दिया। लंच तक भारत ने ११७ ओवरों में केवल दो विकेट के नुकसान पर २७७ रन बना लिए थे। चार सत्र के खेल के बाद विराट कोहली चाह रहे थे कि वे तेजी से रन बनाएं, लेकिन इस कोशिश में वे कई बार आउट होते-होते बचे भी लेकिन अंत में कंगारू खेमें में खुशी की लहर आ ही गई जब दो सत्र बाद उन्हें विराट का विकेट मिला जिसकी उन्हें उम्मीद नहीं थी। 

दरअसल पिछले दो सत्रों यानि कि पहले दिन के तीसरे सत्र में और दूसरे दिन के पहले सत्र में गेंदबाजों को पिच से मदद मिलने लगी थी और विराट कई बार ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ों की बढ़िया गेंदों पर आउट होने से बचते रहे। इसमें कई बार तो विराट ने सूझ-बूझ से गेंद का सामना किया तो कई बार किस्मत ने भी उनको बचाया। 
दूसरे दिन तो सुबह से ही तेज गेंदबाजों को स्विंग और नाथन लॉयन को टर्न मिलने लगा था।  लेकिन वे विराट को पवेलियन नहीं लौटा सके। 

ऐसे आउट हुए विराट
सत्र के पांचवे ओवर में ही मिचेल स्टार्क की एक ऊंची गेंद को विराट कोहली ने उसे थर्ड मैन के ऊपर से निकालने के लिए दिशा दी लेकिन वे एरोन फिंच के हाथों लपक लिए गए। स्टार्क की यह गेंद काफी ऊंची थी लेकिन विराट ने उसे दिशा देनी चाही, पर गेंद सीधी फिंच के हाथों में चली गई और विराट को पवेलियन वापस जाना पड़ा।  विराट ने अपनी टीम के लिए २०४ गेंदों पर ९ चौकों के साथ ८३ रन बनाए। 

दूसरे दिन के दूसरे सत्र में साफ लग रहा था कि विराट टीम के रनों की रफ्तार बढ़ाने के इरादे से ही उतरे थे। कई बार वे बड़े शॉट लगाने में चूके तो कुछ शॉट्स हवा में ऐसे गए कि गेंद वहां गिरी जहां कोई फील्डर नहीं था। 

स्टार्क को जैसे यकीन ही नहीं हुआ कि उन्हें सफलता मिल गई है। उनकी खुशी उनके चेहरे से साफ़ झलक रही थी क्योंकि वे अपनी हंसी रोक नहीं प् रहे थे। कई अच्छी गेंदों पर विराट जहां खुशकिस्मत रहे तो ऐसे में उनका विकेट तोहफे में मिलने पर हैरानी स्वाभाविक ही थी। वहीं विराट कोहली को भी यकीन नहीं हुआ कि वे आउट हो गए हैं। उन्होंने इस शॉट को परफेक्ट तरीके से खेला था, लेकिन उनका यह जोखिम उन्हीं का विकेट गिरा गया। अगर विराट इस गेंद पर आउट नहीं होते तो विराट का यह शॉट वनडे के लिए बेहतरीन शॉट होता। लेकिन यह शॉट टेस्ट मैच को देखते हुए सही नहीं था। 

ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाज पर निर्भर है मैच
टीम इंडिया की इस मैच में वैसे तो स्थिति काफी मजबूत है पर अब मैच का रुख ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी पर निर्भर करेगा। अगर भारतीय गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी पर हावी हो पाए तो मैच का नतीजा भारत की ओर जा सकता है। वरना पिच के मिजाज को देखते हुए कई लोग अभी से मानने लगे हैं कि मैच ड्रॉ की ओर जा रहा है। हालांकि यह कहना ज्यादा ही जल्दबाज़ी हो जाएगी। 

भारत ने नई प्रथा के तहत मैच से एक दिन पहले अंतिम एकादश का ऐलान कर दिया था। कप्तान विराट कोहली ने टीम में मयंक अग्रवाल को चुना। बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच से मयंक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। मयंक का ओपनिंग करना तय था और उनके साथ छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने वाले हनुमा विहारी ने दूसरे सलामी बल्लेबाज की जिम्मेदारी निभाई। कोहली ने इतना बड़ा जोखिम अपने दो शानदार सलामी बल्लेबाजों केएल राहुल और मुरली विजय की खराब फॉर्म को देखते हुए लिया था। इसके चलते इन दोनों को टीम से बाहर जाना पड़ा। 

टेस्ट मैच में खेलने वाली टीमें कुछ इस प्रकार है:

भारत: विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, हनुमा विहारी, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, रवींद्र जडेजा, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह.

ऑस्ट्रेलिया: टिम पेन (कप्तान), मार्कस हैरिस, एरॉन फिंच, उस्मान ख्वाजा, ट्रेविस हेड, शॉन मार्श, मिशेल मार्श, नाथन लियोन, मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस और जोश हेजलवुड। 

                                                                            -विभा चौधरी