Live Tv

Sunday ,16 Dec 2018

आग से झुलसीं साध्वी की मौत से प्रशासन में मचा हड़कंप

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Dec 05-2018 04:48:31pm

शाहजहाँपुर: साध्वी कोयल गिरी मूलतः शाहजहांपुर के तिलहर नगर की निवासी थी और उनका विवाद कुछ नगर के ही लोगों से चल रहा था। साध्वी एवं उनके परिजनों का आरोप यह था कि साध्वी कोयल गिरी को उक्त विवाद में नामजद लोगों ने जिंदा जलानें के प्रयास से लगाई थी।  जहाँ आग से झुलसीं साध्वी सीमा वर्मा उर्फ कोयल गिरि की मंगलवार को 11वें दिन मौत हो गई उनका इलाज बरेली के एक निजी अस्पताल में चल रहा था। सीमा वर्मा उर्फ कोयल गिरि का जमीन को लेकर सालों से विवाद चल रहा था उनकी मां रामलली ने तिलहर के ही कुछ राइस मिलर्स पर साध्वी को घेर कर जलाने का आरोप लगाया था। उन्होंने तिलहर के ही पंकज गुप्ता, सुशील गुप्ता, अनिल गुप्ता, अनुराग गुप्ता, दौलत गिरी को नामजद करते हुए मुकदमा भी दर्ज कराया था। 

 

आपको बताते चलें कि 23 नवंबर की शाम को साध्वी सीमा उर्फ कोयल गिरि लखनऊ से ट्रेन से अपनें घर वापस लौटीं वैसे ही आग की तरह सूचना फैल गई कि साध्वी जल गई हैं|लेकिन आग कैसे लगी और किसनें लगाई यह मामला दब कर रह गया क्योंकि आग लगनें के दरमियान परिजन आग से झुलसी कोयल गिरी को तत्काल बरेली ले गए तब से साध्वी का इलाज चल रहा था। 

 

साध्वी सीमा वर्मा उर्फ कोयल गिरि की मां रामलली ने गंभीर आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है|कि  23 नवंबर को उनकी बेटी साध्वी सीमा उर्फ कोयल गिरी जब लखनऊ से आ रही थीं, तभी घर के पास रास्ते में आरोपियों ने उन्हें घेर लिया। इसके बाद कपड़े फाड़ दिए और मिटटी का तेल डाल कर आग लगा दी साध्वी सीमा घर में आकर बेसुध होकर गिर गईं, जहाँ परिजनों ने आग बुझाई और तत्काल बरेली इलाज के लिए रवाना हो गए। 

 

आरोप और जमीन का पूरा विवाद  सीमा वर्मा उर्फ कोयल गिरि की मां रामलली के अनुसार उनकी एक जमीन निसंतान बाबू रामेश्वर सहाय द्वारा पॉवर ऑफ अटार्नी से दी गई थी उक्त जीन को सुशील, अनिल, अनुराग आदि अपनी बताते थे। रामलली का कहना है कि उक्त लोगों ने जमीन का फर्जी बैनामा कर हड़पने का प्रयास किया था। आरोपियों के पक्ष में दौलत गिरी नाम के व्यक्ति का फोन साध्वी सीमा के पास आता था वह जमीन छोड़ देने के लिए धमकाता था।