Live Tv

Sunday ,16 Dec 2018

RSS ने किया रथ यात्रा का एलान, अब बनेगा राम मंदिर

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Nov 30-2018 01:41:31pm

के न्यूज़;अम्बुज: आगामी लोकसभा चुनाव से पहले देश में नेताओं ने अपने भड़काऊ बयान देकर भारत की राजनीति को एक नया आयाम देने का सिलसिला शुरू कर दिया है. जहां एक तरफ अपने बयानों में कोई कहता है की पहले मंदिर और फिर सरकार वही कोई भगवान की जाति बता कर जनता को एक बार फिर धर्म और जाति के नाम पर बाटते हुए अपने वोट बैंक की राजनीति शुरू कर दी है. वही दूसरी तरफ कई संघटनों और लोगो का कहना है की अयोध्या राम जन्म भूमि पर राम मंदिर बनना चाहिए। जिसके लिए अभी कुछ दिन पहले हजारो की तादात में शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अयोध्या आकर सरकार से मंदिर जल्द से जल्द बनवाने की चेतावनी देकर मुंबई वापस गए. उसके बाद संतो ने धर्म सभा लगा कर कहा की कोर्ट के फैसले का इन्तजार न करते हुए राम मंदिर बनवाने का फैसला लिया जाये। इसी कड़ी में शुक्रवार को राष्ट्रिय स्वयंसेवक संघ ने अपना आक्रामक रुख अपनाते हुए कहा की RSS एक दिसंबर से नौ दिसंबर तक राजधानी दिल्ली में राम मंदिर के लिए रथ यात्रा निकालेगा. ये रथ यात्रा पूरे देश में जाएगी, जिसकी शुरुआत दिल्ली से की जा रही है. 

 

1 दिसम्बर से शुरू हो रहे रथ यात्रा का मकसद जल्द राम मंदिर का निर्माण के लिए देश भर के लोगो का समर्थन जुटाना है. वही बता दे की 25 नवम्बर को संत समाज और वीएचपी द्वारा बुलाये गए धर्म संसद करके सरकार को पहले ही इस मुद्दे पर चेतावनी दे दी है. वही संघ द्वारा निकाली जा रही इस रथ यात्रा को 'संकल्प रथ यात्रा' नाम दिया गया है. रथ यात्रा की जिम्मेदारी संघ के सहयोगी संगठन 'स्वदेशी जागरण मंच' को दी गई है. संघ के प्रांत संघचालक कुलभूषण आहूजा दिल्ली के झंडेवालान मंदिर से हरी झंडी दिखाएंगे.

 

आपको बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ,वीएचपी और संत समाज की ओर से लगातार मोदी सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है कि सरकार तुरंत कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण करें. सरकार से मांग की जा रही है कि अध्यादेश लाकर या कानून बनाकर इसका हल निकाला जाए. वही दूसरी तरफ केंद्र और राज्य में स्थापित भाजपा सरकार की तरफ से इस सवाल पर जवाब मांगने पर पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलै वही भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने साफ किया है कि वह राम मंदिर का निर्माण संवैधानिक रूप से कराना चाहते हैं क्योंकि अभी ये मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. अब सवाल यह की क्या इस रथ यात्रा से सरकार राम मंदिर पर कुछ कदम उठाएगी ? वही बता दे की 6 दिसम्बर1992 को हुए दंगे का भी नीव एक रथ यात्रा था. इतने सालों के बाद क्या अयोध्या अपना इतिहास दोहराएगा? 

 

अब पढ़े ये खबर KNEWS के Latest App पर: डाउनलोड करे