Live Tv

Sunday ,16 Dec 2018

''भगवान'' ने लिया था संन्यास, शतक से चुकने के बाद भी शतकों के शतक का बनाया रिकार्ड

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Nov 16-2018 12:37:14pm

के न्यूज़;अम्बुज: खेलो की दुनिया में भारतीय खिलाड़ियों  ने सभी खेलो में अपनी छाप छोड़ने में कामयाब हुए. वही क्रिकेट के जन्मदाता भले ही इंग्लैंड है लेकिन इस खेल के भगवान तो भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्ट सचिन तेंदुलकर को ही कहा जात है. वैसे तो सभी देशो में  क्रिकेट को बड़ी धूम धाम से खेला जाता और देखा भी जाता है. परन्तु अपनी संस्कृति और सभ्यताओं के लिए दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाने वाली हिंदुस्तान में क्रिकेट को एक धर्म की तरह पूजा जाता है. जिसके भगवान तेंदुलकर ने ठीक 5 साल पहले 16 नवम्बर 2013 को आखिरी बार क्रिकेट मैदान मैच खेला था.वह दिन उनके प्रशंसक और पुरे क्रिकेट जगत के लिए बहुत ही भावनात्मक था. बता दे की सचिन तेंदुलकर ने जिस मैदान ने क्रिकेट का ककहरा सीखा ,उसी मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में उन्होंने अपने करियर का आखिरी मैच भी खेला।  

 

वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले जा रहे सीरीज को भारत ने जीतकर क्रिकेट के भगवान को एक अच्छी बिदाई दी. वही उनका बिदाई भाषण भी कम नहीं था. जिसमे उन्होंने अपने सभी प्रशंसकों ,समर्थको ,परिवार वालो और अपने गुरु को इस पल पर धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा था की अगर यह लोग नहीं होते तो वह यहाँ तक नहीं पहुंच पाते. क्रिकेट जगत का कोई भी ऐसा रिकार्ड नहीं है जो उनके पास नहीं है. उन्होंने 200 टेस्ट में 53.78 की औसत से 15,921 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 51 शतक और 68 अर्धशतक जमाए हैं। टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 248 नाबाद रहा। टेस्ट में ही नहीं बल्कि वनडे में भी उनकी बराबरी करने की भी कोई खिलाड़ी नहीं सोच सकता। सचिन ने 463 मैच खेले और 49 शतक और 96 अर्धशतक की मदद से 18,426 रन बनाए। वनडे में सचिन का सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 200 रन रहा। इसके साथ ही सचिन ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 100 शतक भी लगाए।