Live Tv

Thursday ,21 Mar 2019

मुंबई के लोकल ट्रेन से टेस्ट टीम तक का सफर

VIEW

Reported by KNEWS

Updated: Oct 12-2018 11:02:29am

के न्यूज़ ;अम्बुज :भारत और विंडीज के बिच खेले जाने वाला आखिरी टेस्ट हैदराबाद में शुक्रवार को भातरीय समयानुसार 10 बजे शुरू हो गया। इस मैच में  कप्तान कोहली और भारतीय टीम क्लीन स्वीप के इरादे से उतरी है. हैदराबाद टेस्ट में भारतीय टीम अपनी विनिंग कॉम्बिनेशन में एक बदलाव करते हुए मुंबई के सार्दुल ठाकुर को प्लेइंग 11 में जगह दी है. बता दे की मोहम्मद शमी के जगह शार्दुल ठाकुर डेब्यू कर रहे है. भारतीय टीम में वह 294 वें डेब्यू भारतीय खिलाडिय होंगे। जो 16 अक्टूबर को 27 साल के हो जायेंगे। 

शार्दुल ठाकुर कैप लेते हुए रवि शास्त्री से

शार्दुल को 5 वनडे और 7 टी-20 इंटरनेशनल खेलने के बाद भारतीय टेस्ट टीम शामिल किया गया. उन्हें शुक्रवार को उप्पल के राजीव गांधी स्टेडियम में मुख्य कोच रवि शास्त्री ने टेस्ट कैप दी. हालांकि उनके डेब्यू के शुरुआती पल अच्छे नहीं रहे. उन्हें  अपने दूसरे ओवर की चौथी गेंद फेंकने के बाद ही मैदान से बाहर जाना पड़ा.बताया जा रहा है कि, मांसपेशियों में खिंचाव के बाद वह ड्रेसिंग रूम लौटे. बता दे की ,मुंबई के शार्दुल ठाकुर ने इससे पहले तक 55 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं. उन्होंने 97 पारियों में 28.27 की औसत से 188 अपने नाम कर किए हैं. उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 6/31 है. 

मांसपेशियों की खिचाव की वजह से ठाकुर बहर जाते हुए

शार्दुल से जुड़ा एक रोचक वाकया तब सामने आया था, जब इस साल फरवरी के आखिर में साउथ अफ्रीका दौरे से लौटने के बाद उन्हें मुंबई की लोकल ट्रेन में सफर करना पड़ा था. हैरान करने वाली बात यह रही कि ट्रेन में उन्हें किसी ने पहचाना तक नहीं.शार्दुल ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि साउथ अफ्रीका दौरे से वापस आने के बाद अंधेरी रेलवे स्टेशन से पालघर जाने के लिए लोकल ट्रेन में चढ़ा, तो यात्रियों ने उन्हें पहचाना ही नहीं. मैं इस बात से हैरान था. हालांकि पास बैठे बच्चों ने मुझे पहचान लिया और मेरे साथ सेल्फी ली.

शार्दुल ट्रेन में  लोकल सफर करते हुए

भारतीय क्रिकेटर ने तब कहा था कि मुझे पहचान बनाने के लिए और कड़ी मेहनत करनी होगी, ताकि मैं जहां भी जाऊं तो लोग मुझे पहचान सकें. शार्दुल अब भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट (वनडे, टी-20, टेस्ट) में खेलने वाले क्रिकेटर बन चुके हैं, जो उन्हें भविष्य में और आगे ले जाएगा.