Live Tv

Sunday ,16 Dec 2018

देश

खबर

पिता की मौत का बदला लेने के लिए की वकील की हत्या

भोपाल के गुनगा थाने के ग्राम धमर्रा गांव में शनिवार को सुबह सरेआम एक वकील की हत्या कर दी गई  है। आरोपियों ने पहले गोलियां चलाई, लेकिन गोली का निशाना चूका तो तलवारों से हमला कर उसकी हत्या कर दी। हत्या के पीछे पुरानी रंजिश बताई जा रही है। हत्या के बाद गांव में दहशत का माहौल फैल गया है।

  धमर्रा गांव के निवासी एडवोकेट भगवान सिंह ने वर्ष 2008 में अपने सगे भतीजे सौदान सिंह की हत्या कर दी थी। इसके बाद भगवान सिंह को कोर्ट ने हत्या के आरोप में आजीवन कारावास की सजा सुना दी थी, जिसमे वह फिलहाल जमानत पर था।

शनिवार को सुबह सौदान सिंह के बेटे रवि और राहुल बाइक पर सवार हुए और तलवार लहराते हुए गांव के बस स्टैंड के पास स्कूल ग्राउंड में पहुँचे। यहाँ पर भगवान सिंह कोर्ट जाने के लिए बस का इंतज़ार कर रहा था। रवि और राहुल ने पहले बंदूक से गोली चलाई,लेकिन गोली का निशाना चूक गया। 

इसके बाद दोनों ने भगवान सिंह पर तलवारों से हमला बोल दिया। हमले में भगवान सिंह की मौके पर ही मौत हो गई।  घटना के बाद गांव में सन्नटा पसर गया। खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची, लेकिन तब तक आरोपी वहाँ से फरार हो चुके थे , हालांकि पुलिस ने एक आरोपी राहुल को हिरासत में ले लिया है।

 

...

KNEWS !1 day ago

खबर

राफेल डील पर कांग्रेस के तेवर हुए आक्रामक

राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कांग्रेस के इतर जाते हुए कहा कि राफेल पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आखिरी है। इस पर टिप्पणी करना अब ठीक नहीं है, लेकिन अब भी अगर किसी को लगता है तो उसे अपनी बात सुप्रीम कोर्ट में ही रखनी चाहिए। राफेल डील का मामला कांग्रेस की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) को दिए जाने की मांग पर अखिलेश ने कहा कि हमारी अब जेपीसी की मांग नहीं है। यह मांग तब थी जब मामला सुप्रीम कोर्ट में नहीं आया था।

    राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट से झटका लगने के बाद भी कांग्रेस ने आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बाद शनिवार को पीएसी (लोक लेखा समिति) के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने ऐसी किसी रिपोर्ट के सामने आने से इंकार करते हुए कहा, 'मैं लोक लेखा समिति के सभी सदस्यों से अनुरोध करूंगा कि अटॉर्नी जनरल और सीएजी को यह बात पूछने के लिए तलब करें कि राफेल सौदे पर सीएजी की रिपोर्ट कब संसद में पेश की गई। मल्लिकार्जुन खड़गे ने यह भी कहा कि सरकार को राफेल सौदे पर सीएजी की रिपोर्ट के बारे में गलत तथ्य पेश कर सुप्रीम कोर्ट को ‘गुमराह’ करने के लिए माफी मांगनी चाहिए। हम सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हैं, लेकिन यह जांच एजेंसी नहीं है। सिर्फ जेपीसी राफेल सौदे की जांच कर सकती है।

  

...

KNEWS !1 day ago

खबर

जम्मू कश्मीर: हिजबुल का मोस्ट वांटेड आतंकी जहूर समेत 3 आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों के खिलाफ अभियान में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। हाल ही में सोपार में मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को मार गिराया था। वही कल फिर से एनकाउंटर में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर जहूर ठोकर को मार गिराया गया है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय राइफल्स के जवान औरंगजेब की हत्या में जहूर का नाम सामने आया था। ऐसे में इसे सुरक्षाबलों के लिए बड़ी सफलता के रूप में देखा जा रहा है। मुठभेड़ के दौरान हिज्बुल के तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया। 


शनिवार तड़के सुरक्षाबलों को खबर मिली कि एक खास जगह पर 2 से 3 आतंकी छिपे हुए हैं। आतंकियों की मौजूदगी का इनपुट मिलने के बाद सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन शुरू किया और आतंकियों को घेर लिया। घंटों चली मुठभेड़ के बाद सुरक्षाबलों ने हिज्बुल कमांडर जहूर ठोकर समेत तीन आतंकियों को मार गिराया। 

...

KNEWS !1 day ago

खबर

दो दिन की मशक्कत के बाद कांग्रेस ने किया राजस्थान के सीएम का ऐलान

करीब ढाई दिन की मशक्कत के बाद आखिर 67 साल के अशोक गहलोत को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने का फैसला कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने ले लिया है। सूत्रों के मुताबिक, सचिन पायलट डिप्टी सीएम यानी उप मुख्यमंत्री बनाए गए और राजस्थान की कमान सँभालने के लिए अशोक गेहलोत को राजस्थान का सीएम चुना गया। इसके साथ ही सचिन पायलट राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख भी बने रहेंगे। 

बता दें कि राजस्थान के सीएम की रेस में दो नाम थे। सचिन पायलट (Sachin Pilot) और अशोक गहलोत (Ashok Gehlot)। 67 साल के गहलोत अब तक वही काम कर रहे हैं जो कभी दिग्विजय सिंह करते थे। यानी राहुल गांधी के प्रमुख सलाहकारों में से एक हैं। गेहलोत को राहुल गाँधी का करीबी भी माना जा रहा है। 

...

KNEWS !2 days ago

खबर

अशोक गहलोत होंगे राजस्थान के सीएम

मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़ और राजस्थान में  कांग्रेस की बड़ी जीत के बाद आखिरकार वो समय आ ही गया है जब कांग्रेस अध्यक्ष राजस्थान के मुख्यमंत्री का एलान करने जा रहे है।  माना जा रहा है राजस्थान के मुख्यमंत्री की कुर्सी की रेस में अशोक गहलोत आगे चल रहे हें. हालांकि , सचिन पायलट इसे स्वीकारने को तैयार नहीं हैं।  गहलोत का कहना है की चनाव में किये गए सभी वादे को पूरे करेंगे।  

बता दें कि कुछ घंटे पहले ही मध्य प्रदेश की कमान संभालने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुक गाँधी ने कमलनाथ को उचित समझा  और उन्हें मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री घोषित किया।  वहीं  आज राजस्थान  के सीएम, का एलान भी हो सकता है सूत्रों  के मुताबिक गहलोत ही सीएम की कुर्सी पर बठेंगे वही दूसरी और सचिन पलट के समर्थको  ने गहलोत का पुतला फूँक नाराजगी जताई। 

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत को नियुक्त किया गया है और सचिन पायलट को डिप्टी सीएम का पद मिला है।   

...

KNEWS !2 days ago

खबर

राफेल डील पर मोदी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से राहत, लगे "राहुल माफ़ी मांगो" के नारे

मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस की दमदार जीत के बाद आज सुप्रीम कोर्ट की तरफ से राफेल डील मामले पर कांग्रेस को जोर का झटका लगा और मोदी सरकार को बड़ी राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि राफेल सौदे में कोई संदेह नहीं है. साथ ही राफेल डील की प्रक्रिया सही ठहराई। उन्होंने बताया की हमने सौदे की पूरी प्रक्रिया पढ़ी है. विमान की कीमत देखना हमारा काम नहीं है.

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल डील मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार सवाल खड़े कर रहे थे. इतना ही नहीं, राहुल गांधी लगातार चुनावी अभियान में कहा करते थे कि देश का 'चौकीदार चोर' है. इस नारे के जरिए राहुल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल खड़े कर रहे थे.

राहुल गांधी की इस प्रक्रिया से जाहिर हो रहा था की वो सीधे-सीधे पीएम मोदी को राफेल डील मामले में भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा रहे थे. इतना ही नहीं इस डील के जरिए अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने का आरोप खुले आम लगा रहे थे. आदेश आने के बाद अम्बानी सहित कई नेताओं ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। अम्बानी ने ट्वीट कर कहा की "हम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं." 

साथ ही केंद्रीय मंत्री ने मांग की है की राहुल अपनी इस हरकत के लिए माफ़ी मांगे। "राहुल माफ़ी मांगो" के भी नारे कई जगह लगे. कोर्ट की बेंच ने मामले में दायर याचिकाओं पर 14 नवंबर को सुनवाई पूरी की थी. 

...

KNEWS !2 days ago

खबर

किसका होगा राजस्थान? पायलट और गेहलोत पर संशय जारी.....

मध्यप्रदेश के सीएम का चयन करने के बाद, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजस्थान और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों पर फैसला शुक्रवार के लिए टाल दिया था, सूत्रों के मुताबिक़ उनका मानना है की इस विषय पर वह पार्टी के अन्य नेताओं से चर्चा करके फैसला लेना चाहते हैं.  सूत्रों के अनुसार गांधी ने छत्तीसगढ़ के नये मुख्यमंत्री पर फैसला करने के लिए बृहस्पतिवार को प्रदेश के पार्टी नेताओं से बैठक कर चर्चा की। 

 कांग्रेस अध्यक्ष ने राजस्थान के मुख्यमंत्री पद के दावेदारों अशोक गहलोत और सचिन पायलट के साथ कई बैठकें कीं, लेकिन उनके बीच कोई सहमति नहीं बन पायी। पायलट ने इस शीर्ष पद के लिए दावा किया।  पायलट के समर्थकों ने गांधी आवास के बाहर उनके समर्थन में जमकर नारे भी लगाए। गांधी ने देर शाम पार्टी के केंद्रीय पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ बैठक की। खड़गे ने कहा कि अंतिम निर्णय पर पहुंचने से पहले आज शुक्रवार को प्रदेश नेताओं के साथ बैठक होगी।

अब पढ़े ताज़ा खबरें KNEWS Latest App पर:

 

...

KNEWS !2 days ago

खबर

मध्य प्रदेश में कमल की हुई सरकार

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की जीत के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने आखिरकार कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला कर लिया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने आवास पर राज्य के पर्यवेक्षकों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री पद के दोनों दावेदारों कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया को बुलाकर बैठक की. पार्टी विधायकों, नेताओं और कार्यकर्ताओं से रायशुमारी के बाद राहुल गांधी ने वरिष्ठ नेता कमलनाथ के हाथों मध्य प्रदेश की कमान देने का फैसला लिया. 18 नवंबर 1946 को यूपी के कानपुर में जन्मे कमलनाथ ने देहरादून के दून स्कूल के बाद कोलकाता यूनिवर्सिटी के सेंट जेवियर कॉलेज से बीकॉम की पढ़ाई की है. पेश से बड़े बिजनेसमैन कमलनाथ  मध्य प्रदेश में अपनी चार दशक की राजनीति के खुद को बड़ा महारथी साबित करने में सफल साबित हुए हैं.

नेहरू और गाँधी परिवार के है करीबी 

नेहरू-गांधी परिवार के काफी करीबी वफादारों में कमलनाथ की गिनती होती रही है. कमलनाथ संजय गांधी के बचपन के दोस्त और दून स्कूल के दौरान क्लासमेट रहे हैं. इस वजह से इंदिरा गांधी से भी उनकी निकटता रही. कमलनाथ द इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नॉलजी ए मैनेजमेंट इंस्टीट्यूशन के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अध्यक्ष रहे हैं. पीपीपी मॉडल और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट, वर्ल्ड मार्केट को लेकर गहरी जानकारी रखते हैं. 2011 में दवोस में हुई वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम में कमलनाथ अपने विचार व्यक्त कर चुके हैं.
 

अब पढ़े ताज़ा खबरें KNEWS Latest App पर:

 

...

KNEWS !2 days ago

खबर

दिल्ली हाईकोर्ट का फैसला, दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर लगेगी रोक

देश भर में दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री  पर अब लगेगी रोक।  दिल्ली हाईकोर्ट ने देशभर में दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री और खरीद पर बैन लगाने को कहा है। साथ ही दिल्ली सरकार को सख्त आदेश दिए हैं कि, सरकार आदेशों का सख्ती से पालन करें। बता दें कि, पिछले दिनों मद्रास कोर्ट ने भी दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर रोक लगाई थी।

दिल्ली हाई कोर्ट ने बुधवार को केजरीवाल सरकार को ऑनलाइन दवाइयों की सेल पर सख्त आदेश देते हुए कहा है कि, देश भर में ई-मेडिसिन पर बैन लगाया जाना चाहिए। राजेंद्र मेनन और चंद्रशेखर राव की बेंच ने इस गंभीर मुद्दे पर फैसला सुनाते हुए देश भर में दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर रोक लगा दी है। जाहिर है पिछले लंबे समय से दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री को लेकर तरह-तरह की प्रतिक्रया सामने आयी है। ऐसा इसलिए कहा गया क्योंकि, दिल्ली हाईकोर्ट का मानना है की ऑनलाइन बिक्री की वजह से हर कोई अपने मन मुताबिक़ दवाई मंगवाकर खा रहा है जिससे उनके स्वास्थ पर बुरा असर पड़ता नजर आ रहा है।

बता दें कि, पिछले लंबे समय से दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर हलचल मची हुई है। एक तरफ जहां कोर्ट इसपर सख्ती दिखा रही है। तो वहीं दवाई कंपनियों ने इसको सही बताया है। भारत में फार्मेसी कानून और प्रसाधन अधिनियम, 1940, 1945 और फार्मेसी अधिनियम, 1948 से परिभाषित होती हैं। असोसिएशन ने कहा कि ये कानून कंप्यूटर के आगमन से पहले लिखे गए थे और देश में दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री को परिभाषित करने के लिए कोई ठोस कानून नहीं है। वहीं इन सब के बीच दिल्ली हाई कोर्ट ने सरकार को सख्त निर्देश दिए हैं और तुरंत नियम को लागू करने को कहा गया है। अगर ऐसा नहीं होता है तो कार्रवाई की जायेगी।

अब पढ़े ताज़ा खबरें KNEWS Latest App पर:

 

...

KNEWS !3 days ago

खबर

जम्मू कश्मीर: सेना और आतंकियों में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में, सेना के कर्मियों ने दो आतंकी मार गिराए गए हैं. फिलहाल इलाके में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है साथ ही  सर्च ऑपरेशन जारी है.

उत्तर कश्मीर के बारामूला जिले में सोपोर के  ब्राथ कलां क्षेत्र में बुधवार शाम सुरक्षाबलों ने आतंकियों के मौजूद होने की सूचना के आधार पर कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन शुरू किया. सेना, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप, जम्मू कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ ने शाम को संयुक्त साझा अभियान  चलाया. इस बीच इलाके के निकलने वाले रास्तों को सील कर दिया गया और तमाम घरों में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया. 

जैसे ही सुरक्षाबलों के जवान उस मकान तक पहुंचे जहां आतंकी छिपे हुए थे तो आतंकियों ने फायरिंग करनी शुरू कर दी. देर शाम तक दोनों तरफ से फायरिंग के रात में अँधेरा हो जाने की वजह से सुरक्षाबलों को ऑपरेशन रोकना पड़ा. लेकिन सुबह फिर दोनो तरफ से फायरिंग शुरू हो गई. फिलहाल इस मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर हो गए. जबकी सुरक्षाबलों की कोई जान माल की हानि नहीं हुई.

गौरतलब है कि घाटी में सुरक्षाबलों के जवान लगातार आतंक विरोधी अभियान छेड़े हुए हैं. इस साल कश्मीर में 235 आतंकी मारे गए हैं, जिसमें ज्यादातर आतंकी स्थानीय हैं.

अब पढ़े ताज़ा खबरें KNEWS Latest App पर:

 

...

KNEWS !3 days ago

मुख्य ख़बरे

निर्भया की मां पर पूर्व डीजीपी की फिसली जबान !...

जनरल रावत ने कहा- डोकलाम में चीन सैनिक अभी भी मौजूद ...

पैतृक संपत्ति मामले में बदलाव, शीर्ष अदालत ने पलटा हाई कोर्ट का फैसला ...

मिशन 2019 के लिए बीजेपी शासित राज्यों को जीत मंत्र...

कठुआ रेप केस : संजी राम की बेटी का बड़ा खुलासा, कहा मर्डर का षड्यंत्रकारी हुसैन...

हुमायूँ मकबरे को राष्ट्र धरोहर की सूची से हटाने की मांग : शिया सेंण्ट्रल वक्फ बोर्ड ...